Home Living Healthy स्तन कैंसर के 5 चिंता पैदा करने वाले लक्षण:

स्तन कैंसर के 5 चिंता पैदा करने वाले लक्षण:

आम तौर पर इसे “सी” शब्द से परिभाषित किया जाता हैं; एक ऐसा शब्द जो सब के लिए चिंता का कारण है। महिलाओं के लिए, स्तन कैंसर एक बड़ी समस्या है। स्तन कैंसर के मामले देर से पता लगाने के कारण मृत्यु दर बढ़ रही है। अधिकांश विकसित और विकासशील देशों में जागरूकता फैलाने के लिए काफी कुछ करना है।

जीन में म्यूटेशन की वजह से स्तन के कोशिकाओं की अनियंत्रित वृद्धि होते है, इसने कोई भी आबादी और नस्ल नहीं बच सकती। WHO द्वारा स्तन कैंसर के मामलों पर दुनिया भर में दिखाये आंकड़ों में, यह कहा गया कि यह महिलाओं में कैंसर का सबसे साधारण रूप है। अफ्रीका और मध्य पूर्व के देशों में मामलों की दर उत्तरी अमेरिका और यूरोप की तुलना में कम थी; हालाँकि, जीवित रहने की दर अलग-अलग रही है।

दुर्भाग्य से यह ध्यान देने की जरूरत है हालांकि अफ्रीका और मध्य पूर्व में मामलों की दर कम होने पर भी दुनिया के अन्य हिस्सों की तुलना में जीवित रहने की दर कम है। शुरुआती पहचान और जागरूकता की कमी जीवित रहने की दर को कम करने के मुख्य कारणों के रूप में देखा गया है। यह समस्या विकासशील देशों में बढ़ती दरों के साथ और भी मुश्किल हो गयी है।

स्तन कैंसर के बारे में जागरूकता जगाने के लिए स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं और चिकित्सकों पर भरोसा किया जाता है। अक्टूबर का महीना “स्तन कैंसर जागरूकता माह” और हमारा अपोलो हॉस्पिटल्स का मानना है कि यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम अपनी ओर से इस संदेश को फैलाने का काम करें।

स्तन कैंसर क्या हैं?

स्तन कैंसर स्तन कोशिकाओं की अनियंत्रित बढ़ोतरी है। आमतौर पर लोब्यूल्स और दुग्ध नलिकाओं में घुसकर, वे स्वस्थ कोशिकाओं पर आक्रमण करते हैं और शरीर के अन्य भागों में फैल जाते हैं। कुछ मामलों में, स्तन कैंसर स्तन के अन्य ऊतकों को भी प्रभावित कर सकता है।

स्तन कैंसर के जोखिम कारक

महिलाओं में स्तन कैंसर के पहचाने जाने वाले कई जोखिम कारक हैं।

• पारिवारिक इतिहास।

• BRCA1, BRCA2 और P53 जैसे जीनों में म्यूटेशन।

• लंबे समय तक अंतर्जात एस्ट्रोजेन के संपर्क में रहना।

• समय से पहले पहला मासिक धर्म।

• देर से रजोनिवृत्ति।

• गर्भनिरोधक गोली।

• हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी।

जीवनशैली के अन्य जोखिम कारकों में शराब का उपयोग, शारीरिक निष्क्रियता, मोटापा और कम समय के लिए स्तनपान शामिल हैं।

स्तन कैंसर को चरण 0, IA, IB, IIA, IIB, IIIA, IIIB, IIIC और चरण IV में वर्गीकृत किया गया है। हर एक चरण कैंसर के फैलाव को दर्शाता है, जहां अंतिम चरण मेटास्टेसिस को शरीर के अन्य भागों में दर्शाता है। अंतिम चरण बहुत ख़तरनाक है और इसमें जिंदा रहने की उम्मीद बहुत कम होती है।

देश की महिलाओं को स्तन कैंसर के शुरुआती संकेतों और लक्षणों को जानना बहुत महत्वपूर्ण है ताकि जीवित रहने की दर बढ़ सके और कैंसर से पूरी तरह से बचा जा सके।

निम्न पांच चेतावनी संकेत दिए गए हैं जो स्तन कैंसर होने का संकेत दे सकते हैं, जिसे किसी को भी अनदेखा नहीं करना चाहिए।

1. स्तन में गांठ या मस्से:

स्तन कैंसर के मामलों में दिखाई देने वाला यह सबसे आम लक्षणों में से एक हैं। स्तन में गांठों की जांच की जानी चाहिए, चाहे गांठें कोमल ही क्यों न हों।

2. पूरे स्तन या किसी हिस्से में सूजन:

स्तन के एक हिस्से या पूरे स्तन में किसी भी तरह की सूजन एक समस्या का कारण है। हालांकि यह संक्रमण या गर्भावस्था जैसी स्थिति में भी हो सकता है, लेकिन स्तन की त्वचा में जलन और/या डिंपलिंग जैसे अन्य लक्षण हैं या नहीं यह खोज करना महत्वपूर्ण है। खुद से की गई स्तन परीक्षण किसी भी असामान्य परिवर्तन की जांच करने में मदद करेगी। ऐसा होने पर महिलाओं को तुरंत चिकित्सक से संपर्क करना चाहिए।

3. स्तन की त्वचा में परिवर्तन भी स्तन कैंसर का एक संकेत हो सकता है। इसमें शामिल है:

• जलन/त्वचा का लाल होना।

• त्वचा का मोटा होना।

• स्तन ऊतक के डिंपलिंग।

• त्वचा की बनावट में बदलाव

4. निप्पल में बदलाव:

निप्पल से किसी भी तरह के असामान्य तरल निकालने को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। साथ ही, निप्पल का अंदर की ओर को दबना भी स्तन कैंसर का लक्षण हो सकता है। अगर निप्पल में दर्द हो तो उसकी भी चिकित्सा करानी चाहिए।

5. अंडरआर्म में गांठ:.

अगर अंडरआर्म में गांठ होती है, तो इसकी स्तनों से संबंधित होने की संभावना बहुत ज़्यादा होती है। स्तन का ऊतक अंडरआर्म्स तक होता है। साथ ही, स्तन के कैंसर हाथों के नीचे मौजूद लिम्फ नोड्स से भी फैल सकते हैं।

महिलाओं के जोख़िम वाले कारकों को कम करने के लिए स्वस्थ वज़न बनाए रखना, धूम्रपान और अल्कोहल का सेवन न करना और सब्जियों, मछली और कम वसा वाले उत्पादों से भरपूर आहार करने जैसे जीवनशैली में बदलाव के साथ-साथ नियमित मैमोग्राम करना भी होता है।

Quick Appointment

Most Popular

Long-term Health Effects of COVID-19

COVID-19 symptoms can sometimes persist for months. The virus can not only damage the lungs, but can also damage the heart and...

How is Guillain Barre Syndrome Detected?

Guillain Barre Syndrome, commonly called GBS, is an autoimmune condition that can worsen rapidly. The first symptoms usually...

அபாயம் அதிகரிக்கிறது, நாம் பாதுகாப்பை அதிகரிப்போம்

கோவிட் பெருந்தொற்றுக்கு இடையில் ஏற்பட்டுள்ள இந்த நிவர் புயலின் தாக்கத்தை முன்னிட்டு, அப்போலோ மருத்துவமனை உங்களை மிகவும் கவனமுடன் இருக்குமாறு கேட்டுக்கொள்கிறது. இந்த சீதோஷ்ண நிலையில் நோய் தொற்று பல...

Cyclone ‘Nivar’ – Dos and Don’ts to Stay Safe Before, During and After the Cyclone

As cyclone named ‘Nivar’ is moving at a considerable speed and is heading for Tamil Nadu coast, and the regional meteorological center...